शरीर की पुकार सुनिए और पहचानिये

shareer kee pukaar sunie aur pahachaaniye, Listen and recognize the body's call, शरीर की पुकार सुनिए और पहचानिये, ayurvedatips, ayurveda tips, ayurvedatips-woman-eating-fresh-salad
पुराने जमाने के लोगों को अपने शरीर तथा उसके अंगों की पुकार सुनने की कला आती थी परंतु आज हमें अपने शरीर पर उचित ध्यान देने के लिए समय ही नहीं मिलता या यूं कहिए कि हम उस ओर ध्यान देने का समय ही नहीं निकालना चाहते । वास्तव में, शरीर के अंग किसी प्रकार की पीङा होने पर हमें अपने उपचार के बारे में भी सलाह देते हैं । उस सलाह का पालन करके उस अंग की पीङा या रोग दूर किया जा सकता है ।

हम बच्चे थे उन दिनों । उनके पीठ-पीछे पिताजी की इन बातों को सुनकर खूब हंसे-भला पेट भी कोई बात करता है? लेकिन पिताजी ने बिना किसी दवा के पेट की सलाह के अनुसार कार्य किया । साथ में, दिन में दो बार त्रिफला चूर्ण और शहद का उपयोग किया । पंद्रह दिन में वह पूरी तरह स्वस्थ हो गए । यही नहीं, उन्हें बादी बवासीर की पुरानी शिकायत से भी छुटकारा मिल गया ।

इस घटना के बाद से मैंने भी पिताजी वाला प्रयोग शुरू कर दिया । पेट का दर्द हो या सिर अथवा कमर का, मैं एकांत से जाकर आराम से लेट जाता दूं और उस अंग विशेष से बाते करता दूं। थोङे से ध्यान के बाद वह मुझे ऐसी सलाह देता है जिसका पालन कर मैं रोग या दर्द से छुटकारा पा लेता है ।

shareer kee pukaar sunie aur pahachaaniye, Listen and recognize the body’s call, शरीर की पुकार सुनिए और पहचानिये, ayurvedatips, ayurveda tips, ayurvedatips-woman-eating-fresh-salad

Post Author: ayurvedatips

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *