पुदीना द्वारा आयुर्वेदिक चिकित्सा व घरेलू उपचार के बारे में जानकारी

ayurvedatips, ayurveda tips, ayurvedatips-Pepper-mint-benefits-in-hindi, pudeena dvaara aayurvedik chikitsa, home remedies by mint, पुदीना द्वारा आयुर्वेदिक चिकित्सा, चेहरे की सुन्दरता, जुकाम, खांसी, दमा तथा मंदाग्नि, गैस पीड़ा, पेट दर्द, पित्ती, बिच्छू काटने पर, आंतों में कीड़े होने पर, वमन, हैजा, हिचकी, Facial beauty, colds, coughs, asthma and dementia, gas pains, abdominal pain, hives, scorpions, insects in the intestines, vomiting, cholera, hiccups, pudeena dvaara aayurvedik chikitsa va ghareloo upachaar ke baare mein jaanakaaree, Information about Ayurvedic medicine and home remedies by mint, पुदीना द्वारा आयुर्वेदिक चिकित्सा व घरेलू उपचार के बारे में जानकारी, चेहरे की सुन्दरता, जुकाम, खांसी, दमा तथा मंदाग्नि, गैस पीड़ा, पेट दर्द, पित्ती, बिच्छू काटने पर, आंतों में कीड़े होने पर, वमन, हैजा, हिचकी
गर्मियों के रोगों (दस्त, वमन, हैजा, पेट दर्द, अजीर्ण, चर्म रोग) में शुद्ध और अच्छे किस्म का पुदीना लें। इसको पीसकर रस निकाल लें । फिर छानकर एक शीशी में भर लें । लेकिन यह रस उतना ही रखें जितना दो दिन में प्रयोग करना हो । इसे चीनी के शरबत से मिलाएं । एक गिलास शरबत में तीन चम्मच पुदीने का रस डालना उचित रहता है । दो दिन बाद फिर रस बनाएं । इसका एक सप्ताह तक दिन में दो से तीन बार उपयोग करें । यह रस उपर्युक्त रोगों में लाभ पहुंचाने के साथ-साथ गर्मियों में शीतलता भी प्रदान करता है । इसके अलावा यह निम्न रोगों से भी लाभदायक है-

चेहरे की सुन्दरता :

हरा पुदीना पीसकर चेहरे पर लेप करें । जब यह चेहरे पर सूख जाए, पानी से धो डालें । इससे चेहरे की फुंसियां, मुंहासे तथा दाग मिट जाएंगे । कम से कम एक माह तक सोने से पहले इसका उपयोग करें ।

जुकाम, खांसी, दमा तथा मंदाग्नि :

पुदीना, 5 काली मिर्च और स्वाद के अनुसार नमक डाल चाय की तरह उबालकर दिन में तीन बार पीने पर लाभ होता है ।

गैस पीड़ा :

प्रात: काल एक गिलास पानी में 25 साम पुदीने का रस और 31 ग्राम शहद मिलाकर नियमित रूप से एक सप्ताह तक पीने से लाभ अनुभव होने लगता है ।

पेट दर्द :

चौथाई प्याला पुदीने का रस आधा प्याला पानी से मिलाएं । इसमें आधा नीबू का रस निचोड़ें। 7 बार इस मिश्रण को उल्टें-पलटें और फिर पिएं । इसे पीने के कुछ मिनटों बाद पेट दर्द से आराम मिल जाता है ।

पित्ती :

10 ग्राम पुदीना व 20 ग्राम गुड़ 200 ग्राम पानी में उबाल लें । इसे छानकर रोगी को दिन में दो बार पिलाएं । इसका नियमित सेवन करने से 3-4 दिन के अंदर बार-बार उछलने वाली पित्ती में आराम मिलता है ।

बिच्छू काटने पर :

काटे गए स्थान पर पुदीने को पीसकर उसका लेप करें तथा पानी से पुदीने का रस मिलाकर रोगी को पिलाएं ।

आंतों में कीड़े होने पर :

25 ग्राम पुदीने का रस सुबह शौच से आधा घंटे पहले लें । कुछ दिनों में ही कीड़े मरकर निकल जाएगे ।

वमन :

पुदीने के रस में नीबू का रस मिलाकर देने से उल्टी में लाभ होता है ।

हैजा :

25 ग्राम पुदीने का रस और इतना ही प्याज का रस निकालें । उसमें एक नीबू निचोड़ें । यह रस रोगी को हर पंद्रह मिनट बाद उस समय तक दें, जब तक डाॅक्टर नहीं आता । यदि डॉक्टर या वैद्य से संपर्क न हो सके तो यह रस देते रहने से हैजे में रोगी को स्वास्थ्य-लाभ होता है ।

हिचकी :

हिचकियाँ आनी बंद न हो रही हों तो पुदीने के पत्तों के साथ चीनी या मिश्री के नन्हे-नन्हे टुकड़े चबाएं ।

pudeena dvaara aayurvedik chikitsa va ghareloo upachaar ke baare mein jaanakaaree, Information about Ayurvedic medicine and home remedies by mint, पुदीना द्वारा आयुर्वेदिक चिकित्सा व घरेलू उपचार के बारे में जानकारी, चेहरे की सुन्दरता, जुकाम, खांसी, दमा तथा मंदाग्नि, गैस पीड़ा, पेट दर्द, पित्ती, बिच्छू काटने पर, आंतों में कीड़े होने पर, वमन, हैजा, हिचकी

Post Author: ayurvedatips

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *