पथरी के रामबाण घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपाय

ये पोधा हैं पथर चट्टा का जिसे पाखाण भेद भी कहते हैं जिसका अर्थ हैं पथर को तोड़ने वाला । इसके 3 पतो को सुबह व् शाम को खाली पेट 20 से 25 दिन सेवन करने से पत्थरी टूट कर निकल जाती हैं । आयुर्वेद अपनाये स्वास्थ्य बचाए। अगर आपको यह पौधा ना मिले तो आप होमियोपैथी उपचार करे।

patharee ke raamabaan ghareloo nuskhe aur aayurvedik upaay, is davaee kee prayog vidhi, gurde kee patharee ka ilaaj ke ghareloo nuskhe

होमियोपेथी इलाज

अब होमियोपेथी मे एक दवा है ! वो आपको किसी भी होमियोपेथी के दुकान पर मिलेगी उसका नाम हे BERBERIS VULGARIS ये दवा के आगे लिखना है MOTHER TINCHER ! ये उसकी पोटेंसी है। वो दुकान वाला समझ जायेगा। यह दवा होमियोपेथी की दुकान से ले आइये।
ध्यान दे : ये BERBERIS VULGARIS दवा भी पथरचट नाम के पोधे से बनी है बस फर्क इतना है ये dilutions form मे हैं पथरचट पोधे का botanical name BERBERIS VULGARIS ही है।

इस दवाई की प्रयोग विधि

  • अब इस दवा की 10-15 बूंदों को एक चौथाई (1/ 4) कप गुण गुने पानी मे मिलाकर दिन मे चार बार (सुबह,दोपहर,शाम और रात) लेना है। चार बार अधिक से अधिक और कमसे कम तीन बार। इसको लगातार एक से डेढ़ महीने तक लेना है कभी कभी दो महीने भी लग जाते है।
  • इससे जीतने भी Stone है, कही भी हो गॉल ब्लेडर (Gall bladder) मे हो या फिर किडनी मे हो, या युनिद्रा के आसपास हो,या फिर मुत्रपिंड मे हो। वो सभी स्टोन को पिगलाकर ये निकाल देता हे।
  • 99% केस मे डेढ़ से दो महीने मे ही सब टूट कर निकाल देता हे कभी कभी हो सकता हे तीन महीने भी हो सकता हे लेना पड़े|तो आप दो महिने बाद सोनोग्राफी करवा लीजिए आपको पता चल जायेगा कितना टूट गया है कितना रह गया है। अगर रह गया हहै तो थोड़े दिन और ले लीजिए। यह दवा का साइड इफेक्ट नहीं है।
  • ये तो हुआ जब stone टूट के निकल गया अब दोबारा भविष्य मे यह ना बने उसके लिए क्या??? क्योंकि कई लोगो को बार बार पथरी होती है |एक बार stone टूट के निकल गया अब कभी दोबारा नहीं आना चाहिए इसके लिए क्या ???
  • इसके लिए एक और होमियोपेथी मे दवा है CHINA 1000 प्रवाही स्वरुप की इस दवा के एक ही दिन सुबह-दोपहर-शाम मे दो-दो बूंद सीधे जीभ पर डाल दीजिए। सिर्फ एक ही दिन मे तीन बार ले लीजिए फिर भविष्य मे कभी भी स्टोन नहीं बनेगा।

गुर्दे की पथरी का इलाज के घरेलू नुस्खे

  1. पपीते की जड़ 6 ग्राम पीस ले, अब इसे 50 ग्राम पानी में अच्छे से घोल कर साफ़ कपडे से छान ले और मरीज़ को पीला दे। 21 दिन तक ये घोल रोगी को पिलाने पर पथरी गल कर पेशाब के रस्ते बाहर निकल जाएगी।
  2. पथरचट्टा का 1 पत्ता, 4 दाने मिश्री मिला कर पीस ले और एक कप पानी के साथ हर रोज खाली पेट ले।
  3. मुल्ली के पत्तों का रस 100 ग्राम की मात्रा में ले। रोजाना दिन में 2 से 3 बार इस रस को पीने से पथरी में फायदा मिलेगा।
  4. आप पानी से भी पथरी का उपचार शुरू कर सकते है। रोजाना 5 से 6 लीटर पानी पिना अच्छा है और अगर बियर का सेवन कर सकते है तो इससे भी करने में फायदा मिलता है।
  5. हल्दी का प्रयोग पथरी में उत्तम है। 2 ग्राम गुड और 1 ग्राम हल्दी गाजर की कॅंजी के साथ खाने से पथरी गल कर निकल जाएगी।
  6. पत्थरचट्टा के पत्तो को पानी में उबाल ले और काढ़ा बना कर पिये, इस उपाय को लगातार 2 हफ्ते करने से पथरी से निजात मिलेगी।
  7. 250 ग्राम पानी में 20 ग्राम कूलथी डाल कर उबाल ले , जब पानी एक चौथाई रह जाए तब इसे उतार कर छान ले। ये पानी जब गुनगुना हो तब रोगी को पिलायें। 20 दिन लगतार ये उपाय दिन में 2 बार करने से पथरी घुल कर बाहर निकल जाएगी।
  8. पुदीने की पत्तियों को पानी में उबाल कर पिने से पथरी में आराम मिलता है।
  9. जामुन खाने से भी पथरी के रोगी को आराम मिलता है।
  10. गुर्दे की पथरी के उपचार में विटामिन बी6 का सेवन काफी असरदार है, तुलसी के पत्तो में vitamin B6 अधिक मात्रा में होता है। तुलसी के पत्तों को चबा चबा कर खाया करे। किडनी को स्वस्थ और सेहतमंद रखना हो तो तुलसी के पत्तों को पानी मे उबाल कर पिये। इसके साथ तुलसी की चाय पीना भी काफी फायदेमंद है।

patharee ke raamabaan ghareloo nuskhe aur aayurvedik upaay, is davaee kee prayog vidhi, gurde kee patharee ka ilaaj ke ghareloo nuskhe, Panacea stones home remedies and herbal remedy, the medicine method used home remedies to treat kidney stones, पथरी के रामबाण घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपाय, इस दवाई की प्रयोग विधि, गुर्दे की पथरी का इलाज के घरेलू नुस्खे

Post Author: ayurvedatips

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *