लू से बचने के उपाय, लक्षण और उपचार की जानकारी

loo se bachane ke upaay, lakshan aur upachaar kee jaanakaaree, Remedy, symptoms and treatment information, लू से बचने के उपाय, लक्षण और उपचार की जानकारी, ayurvedatips-garmee, ayurvedatips, ayurveda tips

लू से बचने के उपाय

  • धूप में अधिक समय तक नहीं रहें और छतरी का प्रयोग करें
  • पास में प्याज की एक गांठ कपूर या पुदीना रखें
  • भोजन के साथ प्याज की एक गांठ काटकर और उसमें नीबू मिलाकर खाएं
  • धूप में जाने से पहले एक गिलास पानी पी लें
  • प्यास के वेग को रोकें नहीं और प्यास लगने पर शुद्ध जल अवश्य पिएं
  • पिसी धनिया और चीनी का शरबत तथा गुलाब का शरबत विशेष लाभ देता है ।

लू लगने के लक्षण

  • बदन का तापक्रम एकदम बढ़ जाता है
  • रोगी के मुख पर लालिमा आ जाती है
  • शरीर से पसीना निकलना बंद हो जाता है
  • सिर दर्द होता है
  • तेज़ प्यास, उल्टी, गले में खुश्की, मुख सूखना, दस्त, आंखों में जलन, मूत्र में जलन, बार-बार पेशाब की परेशानी नाड़ी तथा सांस की चाल में वृद्धि ।

उपचार

  • काली तुलसी के फूलों को पीस ठंडे जल से मिलाकर रोगी को तीन-चार बार दें ।
  • बकरी के दूध से मरीज के शरीर की मालिश करें । इससे रोगी के शरीर का रक्त संचार संतुलित होता है।
  • एक गिलास पानी में 1/2 चाय का चम्मच भर नमक और आधा नीबू का रस मिलाकर रोगी को दें । दिन से चार बार इसी प्रकार का घोल बनाकर दें ।
  • लू से आराम पाने के लिए कच्चे आम का रस विशेष रूप से लाभदायक होता है । इसके लिए कच्चे आम को उबालकर या भूमल आग पर भूनकर उसके छिलकों को हटा दें । इसके बाद उसकी गुठली निकालकर गूदे से अलग कर दें । गूदे को पर्याप्त जल में डाल उसका घोल तैयार करें । इस घोल को छानकर उसमें पुदीने की पत्ती, काला नमक, भुना काला जीरा एवं काली मिर्च पीसकर मिलाएं ।
  • ये वस्तुएं घोल की मात्रा और स्वाद के अनुसार डालें । इस घोल को इसी प्रकार बनाकर रोगी को दिन में तीन बार एक-एक गिलास दें । यह लू की सर्वश्रेष्ठ घरेलू औषधि है । इसे “पना” भी कहते हैं । शारीरिक शिथिलता, कमजोरी और गर्मी या लू के हानिकारक प्रभावों को दूर करने के लिए यह रामबाण के सदृश्य है ।
  • लू से पीड़ित रोगी के तलुओं में घिया (लौकी) को काटकर मलने से आराम मिलता है ।
  • लू लगने पर रोगी को सबसे पहले मोटे कपड़े या वस्त्र से ढक देना चाहिए ताकि बदन की अतिरिक्त गर्मी बाहर निकल जाए ।
  • लू से पीड़ित व्यक्ति को गर्म तासीर वाले खाद्य, गरिष्ठ चटपटे और चिकने पदार्थ नहीं देना चाहिए । उसे चाय, कॉफी, शराब, भांग, बीड़ी, सिगरेट, खाने की तम्बाकू और पान-मसाला आदि के प्रयोग से भी बचाना आवश्यक होता है । इसके स्थान पर ठंडा जल, नीबू, दही, नमकीन मट्ठा या लस्सी, आम का पना आदि दीजिए ।

loo se bachane ke upaay, lakshan aur upachaar kee jaanakaaree, Remedy, symptoms and treatment information, लू से बचने के उपाय, लक्षण और उपचार की जानकारी, ayurvedatips-garmee, ayurvedatips, ayurveda tips

Post Author: ayurvedatips

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *