कब्ज (Constipation) के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज?

कारण
यदि पेट की सफाई ठीक से नहीं होती या मल त्याग करने में कठिनाई होती है तो वह कब्ज की सीमा में आ जाता है । यह रोग भोजन की गङबङी, भूख हैं अधिक भोजन खाने, चटपटे, मिर्च-मसालेदार वस्तुओं का सेवन करने तथा छिलके रहित भोजन से होता है । इसके अतिरिक्त शौच रोकने की आदत, शारीरिक श्रम का अभाव, तनाव, आंतों की कमजोरी, पानी की कमी एवं मादक द्रव्यों के रोवन आदि से भी कब्ज बन जाता है ।

kabj (chonstipation) ke kaaran, lakshan aur aayurvedik va ghareloo ilaaj, Due to constipation, symptoms and Ayurvedic and home remedies, कब्ज (Constipation) के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज

लक्षण

कब्ज होने पर पेट में भारीपन, बेचैनी, हल्का-हल्का दर्द, वायु की अधिकता, जी मिचलने तथा भूख न लगने आदि के लक्षण प्रकट होते हैं । इसके अलावा सिर, कमर तथा हाथ-पैरों में दर्द होने लगता है ।

उपचार

गेहूं के थोड़े से पौधों का ताजा रस निकालकर प्रतिदिन दो बार सुबह-शाम चार-चार चम्मच की मात्रा में सेवन करें ।

  • रात को साबुत मूंग थोड़े से पानी में भिगो दें । 48 घंटे बाद उसमें अंकुर फूट आएंगे । 50 ग्राम अंकुरित मूंग चबा – चबाकर सुबह के समय खाएं। उपर से आधा कप दूध पी लें ।
  • 60 ग्राम तिल को कूटकर उसमेँ जरा-सा गुड़ मिलाकर लड्डू बना लें । रोजाना भोजन करने के बाद दो लड्डू खाए ।
  • तोबे के बरतन में रात को पानी भरकर रख दें । सुबह एक गिलास पानी में चार चम्मच गेहूं के पौधों का रस मिलाकर पी जाएं ।
  • मूंग के दाल की खिचडी छाछ या मट्ठे के साथ सेवन करें ।
  • दोपहर को मसूर की पतली दाल गेहूं की रोटी के साथ सेवन करें ।

kabj (chonstipation) ke kaaran, lakshan aur aayurvedik va ghareloo ilaaj, Due to constipation, symptoms and Ayurvedic and home remedies, कब्ज (Constipation) के कारण, लक्षण और आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज

Post Author: ayurvedatips

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *