हिचकी कारण, लक्षण, सबसे आसान आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज?

कारण

प्रेनिक स्नायु में उत्तेजना के कारण डायफ्राम नामक पेशी सिकुड़ जाती है जिससे हिचकी आने लगती है । यह रोग स्वरयंत्र बंद हो जाने, वायु विकार उत्पन्न होने तथा अपच के कारण होता है। इसके अलावा तेज मिर्च – मसालेदार पदार्थ खाने, अधिक चाय या शराब पीने तथा कंठ के विकारों के कारण भी इस रोग की उत्पत्ति हो जाती है।

हिचकी कारण, लक्षण, सबसे आसान आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज, hichakee kaaran, lakshan, sabase aasaan aayurvedik va ghareloo ilaaj, Hiccups, Symptoms, Easiest Ayurvedic and Home Remedies

लक्षण

हिचकी की आवाज गले के बाहर सुनाईं देती है । गले में कुछ देर के लिए ऐंठन – सी पैदा हो जाती है । बार – बार हिचकी आने के कारण आवाज बैठ जाती है । रोगी को पानी निगलने में कठिनाई होती है ।

उपचार

उबले हुए चावलों में घी डालकर खाएं ।

  • गेहूँ के चोकर के पानी में नीबू निचोड़कर प्रयोग करें ।
  • गेहूं के थोड़े से दानों को आग में डालकर उसकी धूनी लें ।
  • मोरपंख के चांद का भस्म आधा ग्राम तथा पीपल का चूर्ण एक ग्राम – दोनों को चावल के चूर्ण में मिलाकर सेवन कों ।
  • गेहूं के कोंपल का रस एक चम्मच तथा हींग को रत्ती – दोनों चीजों को मिलाकर धीरे – धीरे चाटें है।
  • उपले की मरम राख 3 ग्राम, शहद एक चम्मच और चने का बेसन एक चम्मच – तीनों चीजें मिलाकर सेवन करें।
  • गेहूं के पिसे दाने एक चम्मच एवं पीपल का चूर्ण एक चुटकी – दोनों को शहद में मिलकर खाएं ।
  • ayurveda tipsआधा चम्मच सूखा धनिया और आधा चम्मच कच्चे चने – दोनों को चबाकर उनका रस धीरे – धीरे चूसें ।

हिचकी कारण, लक्षण, सबसे आसान आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज, hichakee kaaran, lakshan, sabase aasaan aayurvedik va ghareloo ilaaj, Hiccups, Symptoms, Easiest Ayurvedic and Home Remedies

Post Author: ayurvedatips

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *