दुनिया की सबसे पुरानी इलाज प्रणाली हैं आयुर्वेद

आयुर्वेद दुनिया की सबसे पुरानी इलाज प्रणाली हैं। आयुर्वेद का मतलब है लंबी आयु तक जीना। आयुर्वेद चिकित्सा को भारत की प्राचीन चिकित्सा प्रणाली के रूप में जाना जाता है। आयुर्वेद चिकित्सा न सिर्फ लंबे समय तक आराम पहुंचाती है बल्कि स्वस्थ जीवन जीने में भी मदद करती है। ऐसा माना जाता है कि आयुर्वेदिक चिकित्सा में एलोपैथी दवाईयों की भांति कोई अतिरिक्त प्रभाव नहीं पड़ते। आइए जानें आयुर्वेदिक चिकित्सा और इसकी इलाज प्रणाली के बारे में कुछ दिलचस्प बातें।

  • दुनिया की सबसे पुरानी इलाज प्रणाली हैं आयुर्वेद।
  • जड़ी-बूटियों की मदद से इलाज किया जाता है।
  • शारीरिक ही नहीं मानसिक इलाज भी करता है।
  • ट्रान्सेंडैंटल ध्यान को प्रोत्साहित किया जाता है।

The world's oldest Ayurveda treatment system, duniya kee sabase puraanee ilaaj pranaalee hain aayurved, दुनिया की सबसे पुरानी इलाज प्रणाली हैं आयुर्वेद

  • आयुर्वेदिक चिकित्सा गुणों से भरपूर है। स्वस्थ लंबे जीवनकाल के लिए इसमें जड़ी-बूटियों की मदद से इलाज किया जाता है।
  • आयुर्वेदिक चिकित्सा के कई लाभ है। यह शरीर और दिमाग को तंदरूस्त रखने में मदद करता है।
  • आयुर्वेद से कई भयंकर बीमारियों को जड़ से खत्म किया जा सकता है।
  • इसकी दवा से मसाज, रक्त से जुड़ी कई समस्याओं का इलाज जैसे निसंतान, जोड़ों का दर्द, रक्त दबाव, पेट की तकलीफें, खतरनाक बीमारियों का आयुर्वेद में सफल इलाज मौजूद है।
  • आयुर्वेद में प्रयोग होने वाली दवाएं वनस्पति और पेड़-पौधों की मदद से बनाई जाती हैं। इनमें किसी तरह के कैमीकल का प्रयोग नहीं किया जाता। इसलिए आयुर्वेद को कुदरती इलाज भी कहा जाता है।
  • आर्युर्वेद सिर्फ शारीरिक रोग ही नहीं दूर करता बल्कि यह आत्मिक, मानसिक, समाजिक रूप से भी चुस्त -दुरूस्त रखने में मदद करता है।
  • आयुर्वेदिक चिकित्सा लेने के साथ-साथ सकारात्मक सोच का होना बहुत जरूरी है।
  • आयुर्वेद में अच्छे स्वास्थ्‍य को बनाए रखने के लिए परम चेतना की भूमिका पर अधिक ध्यान दिया जाता है जिसके लिए ट्रान्सेंडैंटल ध्यान (टीएम) को  प्रोत्साहित किया जाता है।
  • जैसे हर व्यक्ति का रंग-रूप आकार अलग होता है ऐसे ही उनमें होने वाली बीमारियां भी अलग-अलग रूप की होती है। इसीलिए आयुर्वेद में बाहरी चेतना के बजाय आंतरिक चेतना को अधिक प्रोत्साहित किया जाता है।
  • आयुर्वेद के तहत व्यक्ति में पाए जाने वाले दोषों को दूर करने के हर संभव प्रयास किए जाते हैं जिससे वह दीर्ध समय तक बीमारियों की चपेट से बचा रहे।

The world’s oldest Ayurveda treatment system

The world’s oldest Ayurveda treatment system.
Is treated with the help of herbs.
Physical as well as psychological treatment does.
Transcendental meditation is encouraged.
Ayurveda treatment systems are the world’s oldest. Ayurveda means to live a long life. Ayurveda, the ancient Indian system of medicine as healing known. Ayurvedic therapy not only live longer, healthier lives, bringing relief but also helps. It is believed that Ayurvedic medicine has no side effects like the allopathic medicines required. Here Ayurvedic medicine some interesting things about the system and its treatment.

Ayurvedic healing properties is rich. Healthy long life for the herbs help is treated.
Ayurvedic medicine has many benefits. The body and mind Tndrust keeping helps.
Ayurveda many diseases eliminated can be.
The drug-massage, blood several problems related to the treatment of such Nisntan, joint pain, blood pressure, stomach problems, dangerous diseases in Ayurveda successful treatment exists.
Ayurveda drugs needed vegetation and trees to help are created. Neither the Kamikl use is not. Therefore Ayurveda natural treatment called.
Aryurved just the physical disease itself does not remove, but spiritually, mentally, socially and too agile -durust keeping helps.
Ayurvedic medicine to take along with positive thinking is very important.
In Ayurveda, good health to maintain super-consciousness on the role of attention is paid to which the Transcendental Meditation (TM) and is encouraged.
Like everyone look the size is different, just like those diseases even individual grows. Thus Ayurveda external consciousness rather than inner consciousness more is encouraged.
Ayurveda, the person found in defects to remove all possible efforts are made so that the protracted period of illness vulnerable are avoided.

 

 duniya kee sabase puraanee ilaaj pranaalee hain aayurved

jadee-bootiyon kee madad se ilaaj kiya jaata hai.
shaareerik hee nahin maanasik ilaaj bhee karata hai.
traansendaintal dhyaan ko protsaahit kiya jaata hai.
aayurved duniya kee sabase puraanee ilaaj pranaalee hain. aayurved ka matalab hai lambee aayu tak jeena. aayurved chikitsa ko bhaarat kee praacheen chikitsa pranaalee ke roop mein jaana jaata hai. aayurved chikitsa na sirph lambe samay tak aaraam pahunchaatee hai balki svasth jeevan jeene mein bhee madad karatee hai. aisa maana jaata hai ki aayurvedik chikitsa mein elopaithee davaeeyon kee bhaanti koee atirikt prabhaav nahin padate. aaie jaanen aayurvedik chikitsa aur isakee ilaaj pranaalee ke

aayurvedik chikitsa gunon se bharapoor hai. svasth lambe jeevanakaal ke lie isamen jadee-bootiyon kee madad se ilaaj kiya jaata hai.
aayurvedik chikitsa ke kaee laabh hai. yah shareer aur dimaag ko tandaroost rakhane mein madad karata hai.
aayurved se kaee bhayankar beemaariyon ko jad se khatm kiya ja sakata hai.
isakee dava se masaaj, rakt se judee kaee samasyaon ka ilaaj jaise nisantaan, jodon ka dard, rakt dabaav, pet kee takaleephen, khataranaak beemaariyon ka aayurved mein saphal ilaaj maujood hai.
aayurved mein prayog hone vaalee davaen vanaspati aur ped-paudhon kee madad se banaee jaatee hain. inamen kisee tarah ke kaimeekal ka prayog nahin kiya jaata. isalie aayurved ko kudaratee ilaaj bhee kaha jaata hai.
aaryurved sirph shaareerik rog hee nahin door karata balki yah aatmik, maanasik, samaajik roop se bhee chust -duroost rakhane mein madad karata hai.

aayurvedik chikitsa lene ke saath-saath sakaaraatmak soch ka hona bahut jarooree hai.
aayurved mein achchhe svaasth‍ya ko banae rakhane ke lie param chetana kee bhoomika par adhik dhyaan diya jaata hai jisake lie traansendaintal dhyaan (teeem) ko protsaahit kiya jaata hai.
jaise har vyakti ka rang-roop aakaar alag hota hai aise hee unamen hone vaalee beemaariyaan bhee alag-alag roop kee hotee hai. iseelie aayurved mein baaharee chetana ke bajaay aantarik chetana ko adhik protsaahit kiya jaata hai.
aayurved ke tahat vyakti mein pae jaane vaale doshon ko door karane ke har sambhav prayaas kie jaate

Source By : www.onlymyhealth.com

Post Author: ayurvedatips

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *